समर्थक

शनिवार, 25 जनवरी 2014

दैनिक जागरण पाठकनामा में २५ जनवरी २०१४ को

imageview
अमेठी में राहुल गांधी को दिखाए गए काले झंडे समाचार यही प्रदर्शित करता है कि विपक्ष के पास अपना कोई तरीका सत्ता में आसीन कॉंग्रेस को आईना दिखाने के लिए फिलहाल तो नहीं है क्योंकि वह केवल वही वही कर रहा है जो कॉंग्रेस बहुत पहले और बहुत बार कर चुकी है और यह तो विपक्ष को जानना ही होगा कि इन सब पुराने तरीकों से जनता उब चुकी है और क्योंकि परिवर्तन प्रकृति का नियम है इसलिए यदि वह कुछ नया कर सकता है तो करकर दिखाए और वहाँ दिखाये जहाँ वास्तव में दाल काली हो .राहुल गांधी को इस तरह से अपनी राजनेतिक महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए शिकार बनाया जाना एक जंग खाये हुए हथियार का इस्तेमाल ही कहा जायेगा क्योंकि राहुल गांधी अपने क्षेत्र के लोगों को अपने घर के सदस्यों की तरह ही व्यवहृत करते हैं और राजीव गांधी जी पहले भी अमेठी को अपना दूसरा घर कह चुके हैं और रही कुमार विश्वास की बात तो उनका जवाब तो राहुल गांधी जी ने ही बखूबी दे दिया है वे पिकनिक की बात करते हैं और राहुल कम बोलकर काम करने की .अब ये तो साफ़ है कि काम ज्यादा महत्वपूर्ण है या पिकनिक .कुमार विश्वास को अपनी भाषण शैली में अवश्य सुधार करना होगा .
शालिनी कौशिक
[एडवोकेट]
कांधला [शामली]

कोई टिप्पणी नहीं: