समर्थक

गुरुवार, 7 दिसंबर 2017

मोदी -कॉंग्रेस -बहस में कूदो

मेरे एक पत्र ने जनवाणी के पाठकवाणी कॉलम में बहस छेड़ दी .पहले मेरा पत्र [1-12-2017]

जिसे पढ़कर पूनम मित्तल मोहनपुरी मेरठ को मोदी की नैय्या डूबती दिखाई दी तो वे अपनी कलम का इस्तेमाल कर कॉंग्रेस पर ऊँगली उठाने चली आयी जबकि इसमें तो पहले ही मोदी की भाषा में कांग्रेस को देश बेचने वाला पहले ही बताया जा चुका था ,इसे पढ़कर लगा कि ध्यान बाँटना केवल भाजपा ही नहीं इसके समर्थकों को भी आता है ,लीजिये आप भी पढ़िए -[5-12-2017]


अब भला मैं क्यों चुप रहती ? मैंने भी ये कहा -[6-12-2017]


बहस बढ़ती देख एस.पी.श्रीवास्तव ,भोपा रोड मुज़फ्फरनगर से सच्चाई को सम्बल देते नज़र आये -[7-12-2017]


आपका भी अपने विचारों के साथ बहस में स्वागत है .अगर लिखना चाहे तो जनवाणी में मेल से भेज कर शामिल हो सकते हैं .वैसे पूनम जी व् एस.पी .श्रीवास्तव जी का बहुत बहुत धन्यवाद्.
शालिनी कौशिक